मैं मुझसे मिलना चाहता हूँ – Hindi Poem | By Japan Vora

5
(3)
निदा फ़ाज़ली जी का एक शेर है, “एक से हो गए मौसमों के चेहरे सारे, मेरी आँखों से कहीं  खो गया मंज़र मेरा!” ज़िंदगी के मायने और क्या है ये चाहे पता ना चल पाए तो कोई बात नहीं, खुद से एक मुलाकात और खुद से खुद की पहेचान ज़रूरी है| सच - झूठ, सही – गलत, क्यों, क्या से ऊपर उठकर, मुक्त मन से कुछ लम्हों के लिए ही सही स्वयं से मिलने की इस कविता में प्रस्तुत कामना आप भी रखते है क्या?

Written by - Japan Vora

क्या सच, क्या झूठ

क्या सही, क्या ग़लत

ये प्रश्न जहाँ नहीं

प्रश्न हो तब भी

नहीं अब उत्तर की तलब

द्वंद्व से खाली मैं

अपने भीतर डूबना चाहता हूँ

मैं मुझसे मिलना चाहता हूँ

जब ज़िक्र हुआ था हस्ती का

शोर मचाया था इन हवाओं ने

मौज में थी सारी दुनिया

मैं तो खड़ा मौन

फिर भीतर कैसा ज्वार मस्ती का

उस मौन की मस्ती में

साँस साँस पिघलना चाहता हूँ

मैं मुझसे मिलना चाहता हूँ

समंदर में नहाऊ

लेट जाऊँ रेत में

दौडूँ खुले आकाश के नीचे

खो जाऊँ किसी खेत में

धूप को लेकर आगोश में

चाहत की बाहें फैलाना चाहता हूँ

मैं मुझसे मिलना चाहता हूँ

बंधन की वेदना

वेदना का बंधन

यह कैसा निरंतर प्रवाह

किसी उन्माद में ही मुग्ध

मैं अंधाधुंध जी रहा

ठोकरों से ही मिले तो क्या

राह जो पूर्णता की

चलते चलते कहीं

अहम् ज़रूर मिल जायेगा मिटटी में

फिर हो कर धूल धूल

व्योम भर में फ़ैल जाऊँ

ऐसी एक लहर में डोलना चाहता हूँ

मैं मुझसे मिलना चाहता हूँ

Love what you read? Click on stars to rate it!

As you found this post useful...

Share this post with more readers.

Hi! I'm Japan Vora

Love what you’re reading?
Hit star rating or just post a comment. It motivates me to write more. Thank you!

Sponsored

Older Stories

Related Posts

नया साल – Hindi Poem | By Japan Vora 0 (0)

प्रेम का शिखर वो जगह है जहां व्यक्ति स्वयं के अलावा और कुछ लेकर नहीं पहुँच सकता| व्यक्ति का अहंकार जब उसके व्यक्तित्व से प्रतिबिंबित होने लगे, तब वह अपने आसपास प्रसरते अंधकार को अपनाने लगता है| आतंरिक अंधकार ख़ुद से ख़ुद की पहचान नहीं होने देता और व्यक्ति भरे विश्वमें अकेला रहेना स्वीकार कर उसे जीवन बनाने लगता है| प्रस्तुत कविता ऐसे ही एक व्यक्तित्व की ज़ुबानी है की कैसे वह अहंकार के संग जीते हुए हरदिन अपने को एक नए आयाम में देख पाता है|

હું – Gujarati Kavita | Rashmin Mehta 4 (2)

કુદરતમાં કદાચ મનુષ્ય એક જ એવું પ્રાણી છે જેની મર્યાદાઓ અને શક્તિઓ બંને અસીમ છે. આપણું વ્યક્તિત્વ ભલે ને અનેક પાસાઓ ધરાવતું હોય છતાં, સામેવાળી વ્યક્તિ મોટેભાગે તેનાં ભાવજગત અનુસાર જ આપણને આંકે છે. અહીં પોતાનાં અસ્તિત્વ વિશેની ખરી અનુભૂતિ ધરાવતો એક જાગૃત મનુષ્ય આપણને એ શું શું છે અને શું શું નથી જ એ વિશે કહે છે તો, ચાલો વાંચીએ અને શક્યતાઓનું એક નવું જ પરિમાણ ચકાસીએ…

Let’s Start Talking!

An engineered poet and writer has a degree in Mechanical Engineering. Writes in Gujarati, Hindi and English with the same zeal and intensity for all the three languages.As we all know, a good writer has first to be a good reader so he is. You can also reach Japan at inwardlocus and @ japanv_ on Instagram.
Japan Vora

www.swatisjournal.com

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *