नया साल – Hindi Poem | By Japan Vora

by | May 2, 2021 | Hindi Poetry | 0 comments

नया साल – Hindi Poem | By Japan Vora

शलभ शिखा तक न पहुंच पाया

न तो वो जल पाया

न तो वो मिट पाया

तिमिर में ही तृप्त

नया साल मनाया

राह जो भटक गए थे वह

न प्रणय पथ पर लौट पाया

न तो आनंद की वंचना की

न कभी शोक से लौट पाया

समय की बहती लहर में

न कभी अहम को गिराया

न कभी खुद को ऊपर उठाया

स्वरूप के स्वप्न में मुग्ध

नया साल मनाया

बरस बीतते गए पन्नों पर पर

गुजरती जिंदगी का ख़याल न आया

लोग मिलते रहे बिछड़ते रहे

कभी खुद से मिलने का ख़याल न आया

न कभी सवाल कर पाया

न कभी जवाब ढूंढ पाया

न बदला मैं, न तुम, न हमारा वक्त बदल पाया

यह सिलसिला हर साल दोहराया

समय की बहती धारा में रहकर स्थिर

नया साल मनाया||

Love what you read? Click on stars to rate it!

As you found this post useful...

Share this post with more readers.


0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Pin It on Pinterest

Share this story!

Love what you read? Share this page with your friends!