नया साल – Hindi Poem | By Japan Vora

1
(1)
प्रेम का शिखर वो जगह है जहां व्यक्ति स्वयं के अलावा और कुछ लेकर नहीं पहुँच सकता| व्यक्ति का अहंकार जब उसके व्यक्तित्व से प्रतिबिंबित होने लगे, तब वह अपने आसपास प्रसरते अंधकार को अपनाने लगता है| आतंरिक अंधकार ख़ुद से ख़ुद की पहचान नहीं होने देता और व्यक्ति भरे विश्वमें अकेला रहेना स्वीकार कर उसे जीवन बनाने लगता है| प्रस्तुत कविता ऐसे ही एक व्यक्तित्व की ज़ुबानी है की कैसे वह अहंकार के संग जीते हुए हरदिन अपने को एक नए आयाम में देख पाता है|

Written by - Japan Vora

शलभ शिखा तक न पहुंच पाया

न तो वो जल पाया

न तो वो मिट पाया

तिमिर में ही तृप्त

नया साल मनाया

राह जो भटक गए थे वह

न प्रणय पथ पर लौट पाया

न तो आनंद की वंचना की

न कभी शोक से लौट पाया

समय की बहती लहर में

न कभी अहम को गिराया

न कभी खुद को ऊपर उठाया

स्वरूप के स्वप्न में मुग्ध

नया साल मनाया

बरस बीतते गए पन्नों पर पर

गुजरती जिंदगी का ख़याल न आया

लोग मिलते रहे बिछड़ते रहे

कभी खुद से मिलने का ख़याल न आया

न कभी सवाल कर पाया

न कभी जवाब ढूंढ पाया

न बदला मैं, न तुम, न हमारा वक्त बदल पाया

यह सिलसिला हर साल दोहराया

समय की बहती धारा में रहकर स्थिर

नया साल मनाया||

Love what you read? Click on stars to rate it!

As you found this post useful...

Share this post with more readers.

Best Sellers in Kindle Store

ACI_KindleStore._SS300_SCLZZZZZZZ_

Older Stories

Let’s Start Talking!

An engineered poet and writer has a degree in Mechanical Engineering. Writes in Gujarati, Hindi and English with the same zeal and intensity for all the three languages.As we all know, a good writer has first to be a good reader so he is. You can also reach Japan at inwardlocus and @ japanv_ on Instagram.
Japan Vora

www.swatisjournal.com

0 Comments