आज नहीं होगा – Hindi Poetry

by | Aug 15, 2019 | Hindi Poetry | 0 comments

आज नहीं होगा – Hindi Poetry

Shares

Let me share this Hindi Poetry today! Few more hindi poetry here.

समयचक्र जब घुम गया तो,
एक अनूठा दौर आया है-
मेरी ज़मीं का उजियारा,अब तेरे चाँद का मोहताज नहीं होगा;
बीत गया वो कल की बात थी,वही नज़ारा आज नहीं होगा|

मुस्कानों के खेत खिलेंगे,
फूल से कोमल उन चेहरों पर,अब असुअन का राज नहीं होगा;
बीत गया वो कल की बात थी,वही नज़ारा आज नहीं होगा|

बदल रहे है नज़र-नज़रिया,
आने वाले कल की सुबह का,अब वो पुराना अंदाज़ नहीं होगा;
बीत गया वो कल की बात थी,वही नज़ारा आज नहीं होगा|

भाल लाल अब सजनेवाला,
तमस का काला कपड़ा,अब इस दुल्हन का साज नहीं होगा;
बीत गया वो कल की बात थी,वही नज़ारा आज नहीं होगा|

सपनों के जन्नत की हूरके,
सिर पे अमन का मुकुट सजेगा, ख़ौफ़ का ताज नहीं होगा;
बीत गया वो कल की बात थी,वही नज़ारा आज नहीं होगा|
भूखे पेट का मज़हब क्या है?
चूल्हे चढ़ी उस इक रोटी से, बड़ा कोई सरताज नहीं होगा;
बीत गया वो कल की बात थी,वही नज़ारा आज नहीं होगा|

*मोहताज – dependent,असुअन – tears, भाल – forehead, तमस – darkness, साज – ornament, हूर – a fairy, मज़हब – religion, सरताज – God (here)

Found this collection of Hindi Poems on Independence day.

Love what you read? Click on stars to rate it!

As you found this post useful...

Share this post with more readers.


0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Pin It on Pinterest

Share this story!

Love what you read? Share this page with your friends!