ग़ज़ल – Hindi Poetry

क़समों के खुले मैदानों पर,
इक़रार के पौधे बोए थे|

बारिश न दिखी जब दूर तलक,
अश्कों में  पत्ते डुबोए थे|

सजदेमें झुके थे हम जिनके,
कभी बन ना सका वो अपना ख़ुदा
काँटों से लदी दरख्तों पे
मैंने आमके ख़्वाब संजोए थे |

तुझको पाना है ग़र नामुमकिन,
ख़ुदसे मिलने का भी दम रखते है
सेहरा की सुलगती रेतों में
कभी हमनें भी पाँव भिगोए थे !

Love what you read? Click on stars to rate it!

Hi! I'm Swati Joshi

Love what you’re reading?
Hit star rating or just post a comment. It motivates me to write more. Thank you!

Advertisement

Older Stories

Follow Us

निदा फ़ाज़ली का ये शेर ही हमारी ग़ज़लको मुकम्मिल करता है की, “दिल में न हो जुर्रत तो मुहब्बत नहीं मिलती; ख़ैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलती|

Let’s Start Talking!

Swati Joshi is an Indian writer who loves to write in English and Indian Languages like Gujarati. Read her Gujarati Poetry and Motivational articles at Swati's Journal.
Swati Joshi

www.swatisjournal.com

4 Comments

    • Swati Joshi

      Thank you very much!
      This really means a lot…

      Happy reading!

      Reply
  1. Japan Vora

    “दिल में न हो जुर्रत तो मुहब्बत नहीं मिलती;” કેટલી અદભુત વાત છે. Keep sharing:)

    Reply
    • Swati Joshi

      Nida fazli ji has it all… huge respect!
      Thanks n glad you’ve like it too.

      Reply
Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copy link